खोल आँख ज़मीं देख's image
2 min read

खोल आँख ज़मीं देख

Muhammad IqbalMuhammad Iqbal
Share0 Bookmarks 156 Reads

खोल आँख ज़मीं देख फ़लक देख फ़ज़ा देख!

मशरिक़ से उभरते हुए सूरज को ज़रा देख!

इस जल्वा-ए-बे-पर्दा को पर्दा में छुपा देख!

अय्याम-ए-जुदाई के सितम देख जफ़ा देख!

बेताब न हो मार्का-ए-बीम-ओ-रजा देख!

हैं तेरे तसर्रुफ़ में ये बादल ये घटाएँ

ये गुम्बद-ए-अफ़्लाक ये ख़ामोश फ़ज़ाएँ

ये कोह ये सहरा ये समुंदर ये हवाएँ

थीं पेश-ए-नज़र कल तो फ़रिश्तों की अदाएँ

आईना-ए-अय्याम में आज अपनी अदा देख!

समझेगा ज़माना तिरी आँखों के इशारे!

देखेंगे तुझे दूर से गर्दूं के सितारे!

नापैद तिरे बहर-ए-तख़य्युल के किनारे

पहुँचेंगे फ़लक तक तिरी आहों के शरारे

तामीर-ए-ख़ुदी कर असर-ए-आह-ए-रसा देख

ख़ुर्शीद-ए-जहाँ-ताब की ज़ौ तेरे शरर में

आबाद है इक ताज़ा जहाँ तेरे हुनर में

जचते नहीं बख़्शे हुए फ़िरदौस नज़र में

जन्नत तिरी पिन्हाँ है तिरे ख़ून-ए-जिगर में

ऐ पैकर-ए-गुल कोशिश-ए-पैहम की जज़ा देख!

नालंदा तिरे ऊद का हर तार अज़ल से

तू जिंस-ए-मोहब्बत का ख़रीदार अज़ल से

तू पीर-ए-सनम-ख़ाना-ए-असरार अज़ल से

मेहनत-कश ओ ख़ूँ-रेज़ ओ कम-आज़ार अज़ल से

है राकिब-ए-तक़दीर-ए-जहाँ तेरी रज़ा देख!

No posts

No posts

No posts

No posts

No posts