पानी पर चलते's image
0158

पानी पर चलते

ShareBookmarks


आकाश को ताकते

मैं नज़र रखे हूँ

मौसम पर

दोपहर के मूड पर

बिल्कुल सावधान

एकटक

अपलक निश्वास


चिड़ियाँ मुझे लहरों पर डगमगाता कोई पुतला समझती हैं

समय मिटा चुका है मुस्कराहट मेरे चेहरे से,

एक आएगी कोई लहर कहीं से

ले जाएगी मुझे किसी और किनारे पर


और मैं भूल भी चुका यह हुआ कब

या सपना तो नहीं मैं देखता

तट पर सोई उन्मीलित नीली आँखों का

 

Read More! Learn More!

Sootradhar