नैना निपट बंकट छबि अटके's image
1 min read

नैना निपट बंकट छबि अटके

MirabaiMirabai
Share0 Bookmarks 387 Reads

नैना निपट बंकट छबि अटके।
देखत रूप मदनमोहन को, पियत पियूख न मटके।
बारिज भवाँ अलक टेढी मनौ, अति सुगंध रस अटके॥
टेढी कटि, टेढी कर मुरली, टेढी पाग लट लटके।
'मीरा प्रभु के रूप लुभानी, गिरिधर नागर नट के॥

No posts

No posts

No posts

No posts

No posts