हम मुहब्बत की छाँव में सोते थे जब's image
0122

हम मुहब्बत की छाँव में सोते थे जब

ShareBookmarks

हम मुहब्बत की छाँव में सोते थे जब
ख़ार भी फूल मालूम होते थे जब ।
इब्तेदा-ए-जुनूँ की वो एक बात थी
वो मुहब्बत की तारों भरी रात थी ।
दिल के तारों से मिज़राब टकरा गया
आतिशें ले उठी क़ैफ़-सा छा गया ।
हुस्न का वार जो था वो भरपूर था
जिसको देखा नज़र भर के वो तूर था ।
दिल को एक बार सब धो गईं बिजलियाँ
मेरी रग-रग में हल हो गईं बिजलियाँ ।
दर्दे-दिल का बहाना बनी दिल्लगी
आँसुओं का फ़साना बनी दिल्लगी ।
पल के पल में बदलने लगी ज़िंदगी
ग़म के साँचों में ढलने लगी ज़िंदगी ।
चाह का दिन ढला शाम होने लगी
दिल धड़कने लगा आँख रोने लगी ।
रात और दिन यूँ ही आते जाते रहे
हुस्न और इश्क़ तकमील पाते रहे ।

 

Read More! Learn More!

Sootradhar