मैं पी रही हूँ कि ज़हराब हैं मिरे आँसू's image
0288

मैं पी रही हूँ कि ज़हराब हैं मिरे आँसू

ShareBookmarks
 

मैं पी रही हूँ कि ज़हराब हैं मिरे आँसू

तिरी नज़र में फ़क़त आब हैं मिरे आँसू

तू आफ़्ताब है मेरा मैं तुझ से हूँ रौशन

तिरे हुज़ूर तो महताब हैं मिरे आँसू

वो ग़ालिबन उन्हें हाथों में थाम भी लेता

उसे ख़बर थी सैलाब हैं मिरे आँसू

ख़याल रखते हैं तन्हाइयों का महफ़िल का

ये कितने वाक़िफ़-ए-आदाब हैं मिरे आँसू

छुपा के रखती हूँ हर ग़म को लाख पर्दों में

फ़सील-ए-ज़ब्त से नायाब हैं मिरे आँसू

सहीफ़ा जान के आँखों को पढ़ रहा है कोई

ये रस्म-ए-इजरा को बेताब हैं मिरे आँसू

मैं शायरी के हूँ फ़न्न-ए-अरूज़ से वाक़िफ़

ज़बर हैं ज़ेर हैं एराब हैं मिरे आँसू

जिसे पढ़ा नहीं तुम ने कभी मोहब्बत से

किताब-ए-ज़ीस्त का वो बाब हैं मिरे आँसू

'हया' के राज़ को आँखों में ढूँडने वालो

शनावरो सुनो गिर्दाब हैं मिरे आँसू

Read More! Learn More!

Sootradhar