मैं ग़ज़ल हूँ मुझे जब आप सुना करते हैं's image
1 min read

मैं ग़ज़ल हूँ मुझे जब आप सुना करते हैं

Lata HayaLata Haya
Share1 Bookmarks 1033 Reads

मैं ग़ज़ल हूँ मुझे जब आप सुना करते हैं

चंद लम्हे मिरा ग़म बाँट लिया करते हैं

जब वफ़ा करते हैं हम सिर्फ़ वफ़ा करते हैं

और जफ़ा करते हैं जब सिर्फ़ जफ़ा करते हैं

लोग चाहत की किताबों में छुपा कर चेहरे

सिर्फ़ जिस्मों की ही तहरीर पढ़ा करते हैं

लोग नफ़रत की फ़ज़ाओं में भी जी लेते हैं

हम मोहब्बत की हवा से भी डरा करते हैं

अपने बच्चों के लिए लाख ग़रीबी हो मगर

माँ के पल्लू में कई सिक्के मिला करते हैं

जो कभी ख़ुश हुए देख के शोहरत मेरी

मेरे अपने हैं मुझे प्यार किया करते हैं

जिन के जज़्बात हूँ नुक़सान नफ़अ' की ज़द में

उन के दिल में कई बाज़ार सजा करते हैं

फिक्र-ओ-एहसास पे पर्दा है 'हया' का वर्ना

हम ग़लत बात सुनते कहा करते हैं

No posts

No posts

No posts

No posts

No posts