हर लहज़ा कमीं दिल में तिरी याद रहेगी's image
0124

हर लहज़ा कमीं दिल में तिरी याद रहेगी

ShareBookmarks

हर लहज़ा कमीं दिल में तिरी याद रहेगी

बस्ती ये उजड़ने पे भी आबाद रहेगी

है हस्ती-ए-आशिक़ का बस इतना ही फ़साना

बर्बाद थी बर्बाद है बर्बाद रहेगी

है इश्क़ वो नेमत जो ख़रीदी नहीं जाती

ये शय है ख़ुदा-दाद ख़ुदा-दाद रहेगी

सय्याद को मालूम न था राज़ ये शायद

ये रूह क़फ़स में भी तो आज़ाद रहेगी

वो आए भी तो ज़ब्त से लब हिल न सकेंगे

फ़रियाद मिरी तिश्ना-ए-फ़रियाद रहेगी

ये हुस्न-ए-सितम-कोश सितम-कोश है कब तक

कब तक ये नज़र बानी-ए-बे-दाद रहेगी

वो ज़ुल्फ़-ए-परेशाँ का सँवारे न सँवरना

वो उन के बिगड़ने की अदा याद रहेगी

 

Read More! Learn More!

Sootradhar