कितै दिन ह्वै जु's image
1 min read

कितै दिन ह्वै जु

KumbhandasKumbhandas
Share0 Bookmarks 160 Reads

कितै दिन ह्वै जु गए बिनु देखे।
तरुन किसोर रसिक नँदनंदन, कछुक उठति मुख रेखे॥
वह सोभा वह कांति बदन की, कोटिक चंद बिसेषे।
वह चितवनि वह हास मनोहर, वह नागर नट वेषे॥
स्यामसुंदर संग मिलि खेलन की, आवज जीय उपेषे।
'कुम्भनदास' लाल गिरधर बिन, जीवन जनम अलेषे॥

No posts

No posts

No posts

No posts

No posts