मिस चन्द्रमा मुखर्जी's image
0107

मिस चन्द्रमा मुखर्जी

ShareBookmarks


मिस चन्द्रमा मुखर्जी
आज तो जँचती हो ऐसे जैसे प्रतिमा
डूब जाती है शाम रात के सागर में
पानी सा मन छलक छलक जाता
मन की गागर से
तब मिस चन्द्रमा मुखर्जी
मन एक लिखता तुम्हारे नाम अर्जी
यद्यपि जानता हूँ तुम हो क्षय तुम हो क्षयी
फिर भी लिखता हूँ
प्रतिदिन,
प्रतिमास,
प्रतिवर्ष, आगे
तुम्हारी मर्जी;
ओ मिस चन्द्रमा मुखर्जी

 

Read More! Learn More!

Sootradhar