जिहि फन फुत्कार उड़त पहाड़ भार's image
1 min read

जिहि फन फुत्कार उड़त पहाड़ भार

Kavi BhushanKavi Bhushan
0 Bookmarks 458 Reads0 Likes

जिहि फन फुत्कार उड़त पहाड़ भार,
कूरम कठिन जनु कमल बिदगिलो.
विवजल ज्वालामुखी लवलीन होत जिन,
झारन विकारी मद दिग्गज उगलिगो.
कीन्हो जिहि पण पयपान सो जहान कुल,
कोलहू उछलि जलसिंधु खलभलिगो.
खग्ग खगराज महराज सिवराज जू को,
अखिल भुजंग मुगलद्द्ल निगलिगो.

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts