अब इश्क़ तमाशा मुझे दिखलाए है कुछ और's image
0115

अब इश्क़ तमाशा मुझे दिखलाए है कुछ और

ShareBookmarks

अब इश्क़ तमाशा मुझे दिखलाए है कुछ और

कहता हूँ कुछ और मुँह से निकल जाए है कुछ और

नासेह की हिमाक़त तो ज़रा देखियो यारो

समझा हूँ मैं कुछ और मुझे समझाए है कुछ और

क्या दीदा-ए-ख़ूँ-बार से निस्बत है कि ये अब्र

बरसाए है कुछ और वो बरसाए कुछ और

रोने दे, हँसा मुझ को न हमदम कि तुझे अब

कुछ और ही भाता है मुझे भाए है कुछ और

पैग़ाम-बर आया है ये औसान गँवाए

पूछूँ हूँ मैं कुछ और मुझे बतलाए है कुछ और

'जुरअत' की तरह मेरे हवास अब नहीं बर जा

कहता हूँ कुछ और मुँह से निकल जाए है कुछ और

 

Read More! Learn More!

Sootradhar