बला से कोई हाथ मलता रहे's image
099

बला से कोई हाथ मलता रहे

ShareBookmarks

बला से कोई हाथ मलता रहे

तिरा हुस्न साँचे में ढलता रहे

हर इक दिल में चमके मोहब्बत का दाग़

ये सिक्का ज़माने में चलता रहे

वो हमदर्द क्या जिस की हर बात में

शिकायत का पहलू निकलता रहे

बदल जाए ख़ुद भी तो हैरत है क्या

जो हर रोज़ वादे बदलता रहे

मिरी बे-क़रारी पे कहते हैं वो

निकलता है दम तो निकलता रहे

 

Read More! Learn More!

Sootradhar