मुझ से अब साफ़ भी हो जा यूँही यार आप से आप's image
2 min read

मुझ से अब साफ़ भी हो जा यूँही यार आप से आप

IMAM BAKHSH NASIKHIMAM BAKHSH NASIKH
Share0 Bookmarks 101 Reads

मुझ से अब साफ़ भी हो जा यूँही यार आप से आप

जिस तरह है तिरी ख़ातिर में ग़ुबार आप से आप

कब कहा आतिश-ए-फ़ुर्क़त से जलाया तू ने

हैं मिरे नाला-ए-दिल साइक़ा-बार आप से आप

ख़ार तदबीर है पेश-ए-गुल-ए-तक़दीर अबस

वक़्त पर बाग़ में आती है बहार आप से आप

दोनों आलम में अगर एक नहीं शो'बदा-बाज़

जम्अ' क्यूँ कर हुए अज़दाद ये चार आप से आप

नहीं आता जो वो ख़ुर्शेद मिरे घर में न आए

सुब्ह हो जाएगी आख़िर शब-ए-तार आप से आप

कुछ शिकायत नहीं इश्क़-ए-कमर-ए-नाज़ुक की

हो गया हूँ मैं सनम ज़ार-ओ-नज़ार आप से आप

ओ वजूद-ए-चमन-आरा-ए-अज़ल के मुंकिर

ख़ुद-बख़ुद गुल हुए मौजूद न ख़ार आप से आप

सुर्ख़ पोशाक पहन कर वो सही क़द जो गया

जल उठे सर्व-ए-चमन मिस्ल-ए-चिनार आप से आप

ज़ुल्फ़ को छू के पड़ा है जो बला में ऐ दिल

काट खाता है किसी को कोई मार आप से आप

कुछ तिरी तेग़-ए-जफ़ा की नहीं तक़्सीर ऐ गुल

सूरत-ए-ग़ुंचा मिरा दिल है फ़िगार आप से आप

ग़ैर का मुँह है कि ले बोसे तिरे ओ ज़ालिम

नीलगूँ हो गए होंगे ये एज़ार आप से आप

नाला-कश मिस्ल-ए-जरस क्यूँ है अबस ऐ मजनूँ

सब्र कर आएगी जम्माज़ा-सवार आप से आप

No posts

No posts

No posts

No posts

No posts