करती है मुझे क़त्ल मिरे यार की रफ़्तार's image
1 min read

करती है मुझे क़त्ल मिरे यार की रफ़्तार

IMAM BAKHSH NASIKHIMAM BAKHSH NASIKH
Share0 Bookmarks 117 Reads

करती है मुझे क़त्ल मिरे यार की रफ़्तार

तलवार की तलवार है रफ़्तार की रफ़्तार

कज ऐसी न थी आगे मिरे यार की रफ़्तार

सीखा है मगर चर्ख़-ए-सितम-गार की रफ़्तार

सर गिरते हैं कट कट के वो रखता है जहाँ पाँव

सीखी है मगर यार ने तलवार की रफ़्तार

गर्दिश है तिरी नर्गिस-ए-बीमार को दिन-रात

देखी नहीं ऐसी किसी बीमार की रफ़्तार

टलती नहीं ज़ुल्फ़ों के तसव्वुर की तरह से

है तुर्फ़ा जुदाई की शब-ए-तार की रफ़्तार

लग़्ज़िश न हो क्यूँ कर रह-ए-दीं में मुझे ज़ाहिद

याद आ गई उस काफ़िर-ए-मय-ख़्वार की रफ़्तार

ज़ालिम तिरे कूचे से क़दम उठ नहीं सकता

क्यूँ कर न चलूँ साया-ए-दीवार की रफ़्तार

क्या मार को निस्बत तिरे गेसू के चलन से

है साया-ए-गेसू में सनम मार की रफ़्तार

मोती एवज़-ए-नक़्श-ए-क़दम गिरते हैं 'नासिख़'

ऐसी है मिरी किल्क-ए-गुहर-बार की रफ़्तार

No posts

No posts

No posts

No posts

No posts