अपने अबरू आइने में देख कर बिस्मिल हुआ's image
0137

अपने अबरू आइने में देख कर बिस्मिल हुआ

ShareBookmarks

अपने अबरू आइने में देख कर बिस्मिल हुआ

खींच कर तलवार अपना आप वो क़ातिल हुआ

भाग कर कब तुझ से जाँ-बर कोई ऐ क़ातिल हुआ

उड़ चला गर होश अपना ताइर-ए-बिस्मिल हुआ

अब कहाँ नाले कि उस लैला का मस्कन दिल हुआ

था जरस जो पेश-ए-अज़ीं वो इन दिनों महमिल हुआ

नाम-ए-नेक अहल-ए-हुकूमत को कहाँ हासिल हुआ

ख़ल्क़ में मशहूर इक नौ-शेरवाँ आदिल हुआ

सर से पा तक हर सनोबर ही फ़क़त क्या दिल हुआ

देख कर उस सर्व-क़द को सर्व भी माइल हुआ

इस अदा से बाढ़ देखी आप ने तलवार की

ताइर-ए-रंग-ए-हिना भी ताइर-ए-बिस्मिल हुआ

ध्यान उस के बंद करने का अगर आता तुझे

क्यूँ न तेरा रख़ना-ए-दर मेरा चाक-ए-दिल हुआ

है ये ग़म जाँ-काह ख़ाल-ए-अबरू-ए-ख़मदार का

का'बे में काहीदा हो कर संग-ए-असवद दिल हुआ

जो यहाँ मग़्लूब है उक़्बा में ग़ालिब है वही

मरकब-ए-मक़्तूल है इक रोज़ जो क़ातिल हुआ

धोए हैं धोबी ने दरिया में जो कपड़े यार के

आज कोसों तक मोअ'त्तर दामन-ए-साहिल हुआ

दिलबरी का जब हुआ उस सर्व-क़ामत को ख़याल

उज़्व उज़्व अपना वहीं मिस्ल-ए-सनोबर दिल हुआ

सब के ख़ालिक़ ने बनाए कासा-ए-सर वाज़गूँ

आदमी इस पर भी पेश-ए-आदमी साइल हुआ

बुझ गया मेरा चराग़-ए-दाग़ वस्ल-ए-यार में

नूर-ए-मह नज़दीकी-ए-ख़ुर्शेद से ज़ाइल हुआ

जो परी-रू बैठता है आ के उठ सकता नहीं

अब तो नक़्श-ए-बोरिया का ख़ूब मैं आमिल हुआ

जज़्ब-ए-जिंसिय्यत बहम रहने नहीं देता फ़िराक़

कल बना जो जिस्म-ए-ख़ाकी आज गिल-दर-गिल हुआ

हाए किस क़ातिल-अदा से की शुरूअ' उस ने नमाज़

निकली जब तकबीर उस के मुँह से मैं बिस्मिल हुआ

कहते हैं ज़ाहिद मिरी दीवानगी को देख कर

बुत-परस्ती के सबब क़हर-ए-ख़ुदा नाज़िल हुआ

जब तसव्वुर यार का बाँधा हम आप आए नज़र

सामने आँखों के आईना हमारा दिल हुआ

आशिक़-ए-बे-नंग से होता है माशूक़ों को नंग

पैरहन मजनूँ का फट कर पर्दा-ए-महमिल हुआ

सामने मेरे रहा गर शाम से ले ता-सहर

हुस्न में गर मिस्ल-ए-माह-ए-चारदह कामिल हुआ

रूह-ए-'नासिख़' है उसी की रूह-ए-अक़्दस पर निसार

बारहा जिस के लिए रूहुल-क़ुदुस नाज़िल हुआ

Read More! Learn More!

Sootradhar