भुलाता लाख हूँ लेकिन बराबर याद आते हैं's image
1 min read

भुलाता लाख हूँ लेकिन बराबर याद आते हैं

Hasrat MohaniHasrat Mohani
Share0 Bookmarks 119 Reads

भुलाता लाख हूँ लेकिन बराबर याद आते हैं

इलाही तर्क-ए-उल्फ़त पर वो क्यूँकर याद आते हैं

न छेड़ ऐ हम-नशीं कैफ़ियत-ए-सहबा के अफ़्साने

शराब-ए-बे-ख़ुदी के मुझ को साग़र याद आते हैं

रहा करते हैं क़ैद-ए-होश में ऐ वाए-नाकामी

वो दश्त-ए-ख़ुद-फ़रामोशी के चक्कर याद आते हैं

नहीं आती तो याद उन की महीनों तक नहीं आती

मगर जब याद आते हैं तो अक्सर याद आते हैं

हक़ीक़त खुल गई 'हसरत' तिरे तर्क-ए-मोहब्बत की

तुझे तो अब वो पहले से भी बढ़ कर याद आते हैं

No posts

No posts

No posts

No posts

No posts