उम्मीद का बाब लिख रहा हूँ's image
0113

उम्मीद का बाब लिख रहा हूँ

ShareBookmarks

उम्मीद का बाब लिख रहा हूँ
पत्थर पे गुलाब लिख रहा हूँ

वो शहर तो ख़्वाब हो चुका है
जिस शहर के ख़्वाब लिख रहा हूँ

अश्कों में पिरो के उस की यादें
पानी पे किताब लिख रहा हूँ

वो चेहरा तो आईना-नुमा है
मैं जिस को हिजाब लिख रहा हूँ

सहरा में वफ़ूर-ए-तिश्नगी से
साए को सहाब लिख रहा हूँ

लम्हों के सवाल से गुरेज़ाँ
सदियों का जवाब लिख रहा हूँ

सब उस के करम की दास्तानें
मैं ज़ेर-ए-इताब लिख रहा हूँ

Read More! Learn More!

Sootradhar