फूलों की तरह लब खोल कभी's image
0170

फूलों की तरह लब खोल कभी

ShareBookmarks

फूलों की तरह लब खोल कभी

ख़ुशबू की ज़बाँ में बोल कभी

अल्फ़ाज़ परखता रहता है

आवाज़ हमारी तोल कभी

अनमोल नहीं लेकिन फिर भी

पूछ तो मुफ़्त का मोल कभी

खिड़की में कटी हैं सब रातें

कुछ चौरस थीं कुछ गोल कभी

ये दिल भी दोस्त ज़मीं की तरह

हो जाता है डाँवा-डोल कभी

Read More! Learn More!

Sootradhar