बीते रिश्ते तलाश करती है's image
0249

बीते रिश्ते तलाश करती है

ShareBookmarks

बीते रिश्ते तलाश करती है

ख़ुशबू ग़ुंचे तलाश करती है

जब गुज़रती है उस गली से सबा

ख़त के पुर्ज़े तलाश करती है

अपने माज़ी की जुस्तुजू में बहार

पीले पत्ते तलाश करती है

एक उम्मीद बार बार आ कर

अपने टुकड़े तलाश करती है

बूढ़ी पगडंडी शहर तक आ कर

अपने बेटे तलाश करती है

Read More! Learn More!

Sootradhar