हम जो गुज़रे उन की महफ़िल के क़रीब's image
1 min read

हम जो गुज़रे उन की महफ़िल के क़रीब

Gulzar DehlaviGulzar Dehlavi
Share0 Bookmarks 154 Reads

हम जो गुज़रे उन की महफ़िल के क़रीब

इक कसक सी रह गई दल के क़रीब

सब के सब बैठे थे क़ातिल के क़रीब

बे-कसी थी सिर्फ़ बिस्मिल के क़रीब

ज़िंदगी क्या थी अजब तूफ़ान थी

अब कहीं पहुँचे हैं मंज़िल के क़रीब

इस क़दर ख़ुद-रफ़्ता-ए-सहरा हुए

भूल कर देखा न महमिल के क़रीब

हाए उस मुख़्तार की मजबूरियाँ

जिस ने दम तोड़ा हो मंज़िल के क़रीब

ज़िंदगी-ओ-मौत वाहिद आइना

आदमी है हद्द-ए-फ़ासिल के क़रीब

ये तजाहुल आरिफ़ाना है जनाब

भूल कर जाना न ग़ाफ़िल के क़रीब

तर्बियत को हुस्न-ए-सोहबत चाहिए

बैठिए उस्ताद-ए-कामिल के क़रीब

होश की कहता है दीवाना सदा

और मायूसी है आक़िल के क़रीब

देखिए उन बद-नसीबों का मआल

वो जो डूबे आ के साहिल के क़रीब

छाई है 'गुलज़ार' में फ़स्ल-ए-ख़िज़ाँ

फूल हैं सब गुल शमाइल के क़रीब

 

No posts

No posts

No posts

No posts

No posts