कुछ भी नहीं किया's image
0105

कुछ भी नहीं किया

ShareBookmarks

कुछ भी नहीं किया
केवल दिया, दिया, दिया
जीवन को
सपनों की छवि से
भर लिया,
अंतर की ज्वाला में
जला-बुझा किया
टेरता पपीहा-सा
'पिया, पिया, पिया'

चन्दन-सा तन-प्राण
घिसता रहा,
गौरव, गति, गंध, गान
रिसता रहा,
एक दिया जला
दूसरा बुझा लिया

खंडित विधु-लेखा मैं
पाँव के तले,
पानी की रेखा ज्यों
बने, मिट चले
पंछी ज्यों पंखहीन,
ऐसे ही जिया
कुछ भी नहीं किया
केवल दिया, दिया, दिया

Read More! Learn More!

Sootradhar