धौंस चढ़ा, पुट्ठे दिखा, आँखें खूब तरेर's image
3 min read

धौंस चढ़ा, पुट्ठे दिखा, आँखें खूब तरेर

Gulab KhandelwalGulab Khandelwal
Share0 Bookmarks 673 Reads

धौंस चढ़ा, पुट्ठे दिखा, आँखें खूब तरेर
जब तक सुप्त मृगेंद्र है, गीदड़ तू ही शेर

यह सँकरीला घाट है, दो असि एक न म्यान
आन धरो तो सिर नहीं, सिर जो धरो न आन

मरे न कविता रसमयी, मरे न सत्य विचार
रण में मरे न सूरमा, उठ-उठ करे हँकार

तन हारा फिर भी नहीं, मन ने मानी हार
शिरस्त्राण उतरा नहीं, सिर दे दिया उतार

प्रिय लौटे, रण से उठी, प्रिया समोद, सशंक
दृग-मुद्रण-मिस पृष्ठ लग, समुद लगी फिर अंक

प्राणान्तक पीड़ा हुई, मरने पर ही ज्ञात
पहले रण की बात की, पीछे व्रण की बात

समर-मरण फिर देश-हित, बोला वीर,-- 'न सोच
एक बार ही दे सका, प्राण, यही संकोच'

अंग-अंग छलनी बने, फिर भी रुकी न साँस
भौं में तेवर देखकर मृत्यु न आती पास

घर में बाँबी साँप की, छप्पर अग्नि-झकोर
शत्रु घुसे सीमान्त में, कब जागेगा और!

साधु न अहि पयपान से, मगर दिए उपवीत
नीति भेड़िये ने सुनी! ताड़न में ही जीत

रण-हिंसा हिंसा नहीं, वीर अहिंसा-धाम
गीता देकर कृष्ण ज्यों, सीता लेकर राम

धँसा पंक में, बिद्ध-शर, गरज रहा मृगराज
तिल भर दया न माँगता, क्षणिक देह के काज

मान गये सब कुछ गया, मान रहे सब शेष
मान सहस्रों मिट गये, मानी मिटा न लेश

जाति मर्त्य, कुल शूरता, साहस सहज स्वभाव
इसी खड्ग की धार के तीर हमारा गाँव

द्रोण, भीष्म, अर्जुन कहाँ! कहाँ कर्ण का गेह!
कीर्ति न मरती वीर की, मरती केवल देह

वे दिन गये कि सत्य की स्वयं मची जयकार
आज न्याय के हाथ में देनी है तलवार

फटा शीश, रण-मद हटा, भूल गया आलाप
भगा गजेन्द्र, मृगेंद्र की, पड़े एक ही थाप

बीच न टिकने की जगह, या इस या उस पार
सान धरो तलवार पर कि म्यान धरो तलवार

मेघ न सरित न सर यहाँ, उड़ती धू-धू रेत
पानी धन्य कृपाण का, सदा हरे हैं खेत

प्रिय का शंकित रण-गमन, देख प्रिया ने प्रात
पग-तल-विलुलित कच-सहित, सिर भेजा सौग़ात

रण-रव सुन बोली प्रिया, ग्रीवा फेर कृपाण
ऐसी लट का क्या करूँ कि लटका प्रिय का ध्यान

सुमन-सुमन सैनिक बने, पत्र-पत्र जय-केतु
कली-कली बिजली बने, वन की रक्षा-हेतु

ख्याति अहिंसा की इधर उधर जाति की लाज
भूखों मरे न तृण चरे वनवासी वनराज

गंगा बड़ी न गोमती, सरयू के भू-भाग
जहाँ गिरा सिर वीर का, तीरथ वही प्रयाग

फिरूँ न रण से, देश-हित शत जीवन दो, ईश!
वामन के-से चरण दो, रावण के-से शीश

'सिर काटे ही सिर रहे, सिर रक्खे सिर जाय'
जैसे कलम गुलाब की, बढ़े न अन्य उपाय

'ना' कह दिया न अर्ध थल, राणा की थी शान
हाथ जोड़ हाथी चढ़े, फिर भी मान अमान

प्रिये पत्र-परिरंभ लो नयन-अश्रु में बोर
अबकी होली और से, रंग और ही और

भ्रमवश छुए बिलाव के, केहरि-शिशु की मूँछ
गुर्राहट सुनकर भगे, स्वान दबाये पूँछ

No posts

No posts

No posts

No posts

No posts