देखते-देखते's image
1 min read

देखते-देखते

Gulab KhandelwalGulab Khandelwal
Share0 Bookmarks 151 Reads

देखते-देखते,
हमारा सारा जीवन एक सपने की तरह कट जाता है,
हम जो कुछ भी करें,
दो-चार शब्दों में अँट जाता है;
शेष तो शून्य है, माना
पर कहाँ जाता है भागफल
जब सब कुछ काल-भाजक द्वारा
पूरा-का-पूरा बँट जाता है?

No posts

No posts

No posts

No posts

No posts