मानव कवि बन जाता है's image
0487

मानव कवि बन जाता है

ShareBookmarks

तब मानव कवि बन जाता है!
जब उसको संसार रुलाता,
वह अपनों के समीप जाता,
पर जब वे भी ठुकरा देते
वह निज मन के सम्मुख आता,
पर उसकी दुर्बलता पर जब मन भी उसका मुस्काता है!
तब मानव कवि बन जाता है!

 

Read More! Learn More!

Sootradhar