दिल जलाने से कहाँ दूर अंधेरा होगा's image
0234

दिल जलाने से कहाँ दूर अंधेरा होगा

ShareBookmarks

दिल जलाने से कहाँ दूर अंधेरा होगा

रात ये वो है कि मुश्किल से सवेरा होगा

क्यूँ न अब वज़-ए-जुनूँ तर्क करें लौट चलें

उस से आगे जो है जंगल वो घनेरा होगा

ये ज़रूरी तो नहीं इतना भी ख़ुश-फ़हम न बन

वो ज़माना जो न मेरा है न तेरा होगा

इतना भी संग-ए-मलामत से डरा मत नासेह

सर सलामत है तो इस शहर का फेरा होगा

ख़िदमत-ए-राज-महल पर उन्हें देखा मामूर

जो ये कहते थे कि सरदार बसेरा होगा

राह-ए-पुर-पेच को सहल इतना बताने वाला

राहबर हो नहीं सकता है लुटेरा होगा

वो भी इंसान है ऐ दिल उसे इल्ज़ाम न दे

जाने उस को भी किन आफ़ात ने घेरा होगा

Read More! Learn More!

Sootradhar