मतलब को व्यवहार's image
1 min read

मतलब को व्यवहार

Giridhar KaviraiGiridhar Kavirai
Share0 Bookmarks 180 Reads

सांई सब संसार में, मतलब को व्यवहार।
जब लग पैसा गांठ में, तब लग ताको यार॥

तब लग ताको यार, यार संगही संग डोलैं।
पैसा रहा न पास, यार मुख से नहिं बोलैं॥

कह 'गिरिधर कविराय जगत यहि लेखा भाई।
करत बेगरजी प्रीति यार बिरला कोई सांई॥

No posts

No posts

No posts

No posts

No posts