फिर ए'तिबार-ए-इश्क़ के क़ाबिल नहीं रहा's image
093

फिर ए'तिबार-ए-इश्क़ के क़ाबिल नहीं रहा

ShareBookmarks

फिर ए'तिबार-ए-इश्क़ के क़ाबिल नहीं रहा

जो दिल तिरी नज़र से गिरा दिल नहीं रहा

नश्तर चुभोए अब न पशेमानी-ए-निगाह

मुझ को तो शिकवा-ए-ख़लिश-ए-दिल नहीं रहा

मौजें उभार कर मुझे जिस सम्त ले चलें

हद्द-ए-निगाह तक कहीं साहिल नहीं रहा

क्या कहिए अब मआ'ल-ए-मोहब्बत की सरगुज़िश्त

याद उस की रह गई है मगर 'दिल' नहीं रहा

Read More! Learn More!

Sootradhar