वर्षा और बच्चे's image
0115

वर्षा और बच्चे

ShareBookmarks

वर्षा और बच्चे
छटपट-छटपट वर्षा होती,
खटपट-खटपट गिरते ओले।

गली-गली और हर चौराहे,
उधम मचाते बच्चे डोले।

हा-हा हू-हू ही-ही करते,
बच्चों ने मारी किलकारी।

दूर-दूर तक महकी जैसे,
भाँत-भँतीली खुशबू प्यारी।

वर्षा हुई बंद तो देखा,
इन्द्रधनुष था नभ में प्यारा।

सतरंगी जादू सा लगता,
सबको भाया सबसे न्यारा।।

Read More! Learn More!

Sootradhar