गजब दीवाली's image
0139

गजब दीवाली

ShareBookmarks


धूम धड़ाका
बजे पटाखा
भड़ाम से बोला
बम फटा था ।

सर्र-सर्र से
चक्करी चलती
फर्र-फर्र
फुलझड़ी फर्राटा ।

सूँ-सूँ करके
साँप जो निकला
ऐसे लगा मानो
जादू चला था ।

फटाक-फटाक
चली जो गोली
ऐसा भी
पिस्तौल बना था ।

ऐसी गज़़ब की
हुई दिवाली
किलकारी का
शोर मचा था ।

हुर्रे-हुर्रे का
शोर मचाकर
बच्चों का टोला
झूम रहा था ।

जगमग हो गई
दुनिया सारी
ख़ुशियों का पहिया
घूम रहा था ।।

Read More! Learn More!

Sootradhar