तब हम एक भये रे भाई's image
1 min read

तब हम एक भये रे भाई

Dadu DayalDadu Dayal
Share0 Bookmarks 261 Reads

तब हम एक भये रे भाई।
मोहन मिल साँची मति आई॥टेक॥

पारस परस भये सुखदाई।
तब दूनिया दुरमत दूरि गमाई॥१॥

मलयागिरि मरम मिल पाया॥
तब बंस बरण-कुल भरग गँवाया॥२॥

हरिजल नीर निकट जब आया।
तब बूँद-बूँद मिल सहज समाया॥३॥

नाना भेद भरम सब भागा।
तब दादू एक रंगै रँग लागा॥४॥

No posts

No posts

No posts

No posts

No posts