मेरा मेरा छोड़ गँवारा's image
0141

मेरा मेरा छोड़ गँवारा

ShareBookmarks

मेरा मेरा छोड़ गँवारा,
सिरपर तेरे सिरजनहारा।

अपने जीव बिचारत नाहीं,
क्या ले गइला बंस तुम्हारा॥टेक॥

तब मेरा कत करता नाहीं, आवत है हंकारा।
काल-चक्रसूँ खरी परी रे, बिसर गया घर-बारा॥१॥

जाइ तहाँका संयम कीजै, बिकट पंथ गिरधारा।
दादू रे तन अपना नाहीं, तौ कैसे भयो सँसारा॥२॥

Read More! Learn More!

Sootradhar