है यह आजु बसन्त समौ's image
0581

है यह आजु बसन्त समौ

ShareBookmarks

है यह आजु बसन्त समौ, सु भरौसो न काहुहि कान्ह के जी कौ

अंध कै गंध बढ़ाय लै जात है, मंजुल मारुत कुंज गली कौ

कैसेहुँ भोर मुठी मैं पर्यौ, समुझैं रहियौ न छुट्यौ नहिं नीकौ

देखति बेलि उतैं बिगसी, इत हौ बिगस्यौ बन बौलसरी कौं।।

Read More! Learn More!

Sootradhar