मुकरियाँ's image
1 min read

मुकरियाँ

Bhartendu HarishchandraBhartendu Harishchandra
Share0 Bookmarks 319 Reads


सीटी देकर पास बुलावै।
रुपया ले तो निकट बिठावै॥
लै भागै मोहि खेलहिं खेल।
क्यों सखि साजन, नहिं सखि रेल॥

सतएँ-अठएँ मा घर आवै।
तरह-तरह की बात सुनावै॥
घर बैठा ही जोड़ै तार।
क्यों सखि साजन, नहीं अखबार॥

 

No posts

No posts

No posts

No posts

No posts