रात भर गर्दिश थी उन के पासबानों की तरह's image
1 min read

रात भर गर्दिश थी उन के पासबानों की तरह

Bekhud DehlviBekhud Dehlvi
Share0 Bookmarks 80 Reads

रात भर गर्दिश थी उन के पासबानों की तरह

पाँव में चक्कर था मेरे आसमानों की तरह

दिल में हैं लेकिन उन्हें दिल से ग़रज़-मतलब नहीं

अपने घर में रहते हैं वो मेहमानों की तरह

दिल के देने का कहीं चर्चा न करना देखना

ले के दिल समझा रहे हैं मेहरबानों की तरह

नाम पर मरने के मरते हैं मगर मरते नहीं

कौन जी सकता है हम से सख़्त-जानों की तरह

दिल जो कुछ कहता है करते हैं वही 'बेख़ुद' मगर

सुन लिया करते हैं सब की बे-ज़बानों की तरह

 

No posts

No posts

No posts

No posts

No posts