मुँह फेर कर वो कहते हैं बस मान जाइए's image
085

मुँह फेर कर वो कहते हैं बस मान जाइए

ShareBookmarks

मुँह फेर कर वो कहते हैं बस मान जाइए

इस शर्म इस लिहाज़ के क़ुर्बान जाइए

भूले नहीं हैं हम वो मुदारात रात की

जी चाहता है फिर कहीं मेहमान जाइए

बोले वो मुस्कुरा के बहुत इल्तिजा के ब'अद

जी तो ये चाहता है तिरी मान जाइए

आगे है घर रक़ीब का बस साथ हो चुका

अब आप का ख़ुदा है निगहबान जाइए

उल्फ़त जता के दोस्त को दुश्मन बना लिया

'बेख़ुद' तुम्हारी अक़्ल के क़ुर्बान जाइए

Read More! Learn More!

Sootradhar