झूट सच आप तो इल्ज़ाम दिए जाते हैं's image
0101

झूट सच आप तो इल्ज़ाम दिए जाते हैं

ShareBookmarks

झूट सच आप तो इल्ज़ाम दिए जाते हैं

बात सुनते नहीं दुश्नाम दिए जाते हैं

तिरछी नज़रों से किए उस ने बहुत दिल ज़ख़्मी

तीर टेढ़े मगर काम दिए जाते हैं

कह गया ये भी कोई रूठ के जाने वाला

हम तुझे मौत का पैग़ाम दिए जाते हैं

पासबान जाग उठें वो तो उन्हें दे देना

लिख के काग़ज़ पे ये इक नाम दिए जाते हैं

आप के लुत्फ़-ओ-इनायत का यही है बदला

ग़म लिए जाते हैं आराम दिए जाते हैं

दिल हुआ जान हुई उन की भला क्या क़ीमत

ऐसी चीज़ों के कहीं दाम दिए जाते हैं

तीर-ए-क़ातिल को कलेजे से लगा रक्खा है

हम तो दुश्मन को भी आराम दिए जाते हैं

काम आ जाएगा दुश्मन की मोहब्बत में कभी

एहतियातन दिल-ए-नाकाम दिए जाते हैं

अब तो खुल खेले वो 'बेख़ुद' से ख़ुदा ख़ैर करे

अब तो ख़ुद भर के उसे जाम दिए जाते हैं

Read More! Learn More!

Sootradhar