हरी हरी दूब पर  ओस की बूंदे  अभी थी's image
1 min read

हरी हरी दूब पर ओस की बूंदे अभी थी

Atal Bihari VajpayeeAtal Bihari Vajpayee
Share1 Bookmarks 3730 Reads

हरी हरी दूब पर 

ओस की बूंदे 

अभी थी, 

अभी नहीं हैं| 

ऐसी खुशियां 

जो हमेशा हमारा साथ दें 

कभी नहीं थी, 

कहीं नहीं हैं| 


क्‍कांयर की कोख से 

फूटा बाल सूर्य, 

जब पूरब की गोद में 

पाँव फैलाने लगा, 

तो मेरी बगीची का 

पत्ता-पत्ता जगमगाने लगा, 

मैं उगते सूर्य को नमस्कार करूं 

या उसके ताप से भाप बनी, 

ओस की बूंदों को ढूंढूं? 



सूर्य एक सत्य है 

जिसे झुठलाया नहीं जा सकता 

मगर ओस भी तो एक सच्चाई है 

यह बात अलग है कि ओस क्षणिक है 

क्यों न मैं क्षण क्षण को जिऊं? 

कण-कण में बिखरे सौन्दर्य को पिऊं? 


सूर्य तो फिर भी उगेगा, 

धूप तो फिर भी खिलेगी, 

लेकिन मेरी बगीची की 

हरी-हरी दूब पर, 

ओस की बूंद 

हर मौसम में नहीं मिलेगी।

No posts

No posts

No posts

No posts

No posts