इन शोख़ हसीनों की अदा और ही कुछ है's image
0357

इन शोख़ हसीनों की अदा और ही कुछ है

ShareBookmarks
इन शोख़ हसीनों की अदा और ही कुछ है
और इन की अदाओं में मज़ा और ही कुछ है
ये दिल है मगर दिल में बसा और ही कुछ है
दिल आईना है जल्वा-नुमा और ही कुछ है
हम आप की महफ़िल में न आने को न आते
कुछ और ही समझे थे हुआ और ही कुछ है
बे-ख़ुद भी हैं होशियार भी हैं देखने वाले
इन मस्त निगाहों की अदा और ही कुछ है
'आज़ाद' हूँ और गेसू-ए-पेचाँ में गिरफ़्तार
कह दो मुझे क्या तुम ने सुना और ही कुछ है
Read More! Learn More!

Sootradhar