वहीं से हद मिली है जा पहुँचता कू-ए-जानाँ तक's image
0119

वहीं से हद मिली है जा पहुँचता कू-ए-जानाँ तक

ShareBookmarks

वहीं से हद मिली है जा पहुँचता कू-ए-जानाँ तक

रसाई सालिको जब अक़्ल कर ले हद्द-ए-इम्काँ तक

जुनूँ में दस्त-ए-लाग़र का है क़ब्ज़ा उस बयाबाँ तक

जहाँ सौ मंज़िलें पड़ती हैं दामन से गरेबाँ तक

मिरे दस्त-ए-जुनूँ का ज़ोर और फिर ज़ोर भी कैसा

कि हमराह-ए-गरेबाँ खींचे लाता है रग-ए-जाँ तक

तुम्हें तो खेल था नज़रें मिला कर मुँह छुपा लेना

यहाँ नश्तर हज़ारों रुक गए आ कर रग-ए-जाँ तक

कफ़न में कोई देखे आज उन हाथों की मजबूरी

रहा करते थे गर्दिश में जो दामन से गरेबाँ तक

Read More! Learn More!

Sootradhar