सौ ज़ुल्मतें है इश्क़-ए-परेशाँ लिए हुए's image
098

सौ ज़ुल्मतें है इश्क़-ए-परेशाँ लिए हुए

ShareBookmarks

सौ ज़ुल्मतें है इश्क़-ए-परेशाँ लिए हुए

आ जाओ मशअ'ल-ए-रुख़-ए-ताबाँ लिए हुए

हर मौज बे-ख़राश थी दरिया-ए-हुस्न की

आना पड़ा तलातुम-ए-अरमाँ लिए हुए

दस्त-ए-जुनूँ को छेड़ न ग़ैरत-दह-ए-बहार

दामन से जा मिले न गरेबाँ लिए हुए

बढ़ जाए और अर्सा-ए-महशर ज़रूरतन

आया हूँ साथ कसरत-ए-इस्याँ लिए हुए

इक सरमदी हयात गले मिल के दी गई

थी तेग़-ए-नाज़ चश्मा-ए-हैवाँ लिए हुए

देते रहे वो हुस्न को दर्स-ए-जमाल-ए-तूर

बैठा रहा मैं दीदा-ए-हैराँ लिए हुए

आता है कौन हश्र में ये झूमता हुआ

सज्दों के साथ कूचा-ए-जानाँ लिए हुए

तू अपने तीर-ए-नाज़ का मुझ से न ज़िक्र कर

दिल उड़ न जाए आलम-ए-इम्काँ लिए हुए

छाया है 'अब्र' मोहर-ए-क़यामत पे बन के अब्र

वो अश्क था जो दीदा-ए-गिर्यां लिए हुए

 

Read More! Learn More!

Sootradhar