ख़ाक मैं ने जो उड़ाई थी बयाबानों में's image
095

ख़ाक मैं ने जो उड़ाई थी बयाबानों में

ShareBookmarks

ख़ाक मैं ने जो उड़ाई थी बयाबानों में

रस्म अभी तक वो चली आती है दीवानों में

वहशियों को ये सबक़ देती हुई आई बहार

तार बाक़ी न रहे कोई गरेबानों में

जिस को हसरत हो मिरे दिल से निकल जाने की

ऐसा अरमाँ न हो शामिल मिरे अरमानों में

मुझ से कहती है मिरी रूह निकल कर शब-ए-ग़म

देख मैं हूँ तिरे निकले हुए अरमानों में

वही अज़़कार-ए-हवादिस वही ग़म के क़िस्से

'अब्र' क्या इस के सिवा है तिरे अफ़्सानों में

Read More! Learn More!

Sootradhar