हैराँ नहीं हैं हम कि परेशाँ नहीं हैं हम's image
1 min read

हैराँ नहीं हैं हम कि परेशाँ नहीं हैं हम

Abr Ahsani GunnauriAbr Ahsani Gunnauri
Share0 Bookmarks 94 Reads

हैराँ नहीं हैं हम कि परेशाँ नहीं हैं हम

इस पर भी शाकी-ए-ग़म-ए-दौराँ नहीं हैं हम

शिकवा ज़बाँ पे लाएँ वो इंसाँ नहीं हैं हम

तेरे सितम-ब-ख़ैर परेशाँ नहीं हैं हम

ख़ाक अपनी ख़ाक-ए-कूचा-ए-जानाँ में जा मिली

एहसानमंद-ए-गोर-ए-ग़रीबाँ नहीं हैं हम

आँखों में अश्क दाग़ जिगर में लबों पे आह

सब कुछ है पास बे-सर-ओ-सामाँ नहीं हैं हम

गुलहा-ए-अश्क-ए-ख़ूँ से है दामन भरा हुआ

किस ने कहा कि ख़ुल्द-ब-दामाँ नहीं हैं हम

हम से गुरेज़ हम से ये बे-इ'तिनाइयाँ

ऐ दोस्त बुल-हवस का तो अरमाँ नहीं हैं हम

हसरत जो आ गई वो निकल ही नहीं सकी

वा हो सके जो 'अब्र' वो ज़िंदाँ नहीं हैं हम

No posts

No posts

No posts

No posts

No posts