आप से शिकवा ये करना है अगर राज़ रहे's image
097

आप से शिकवा ये करना है अगर राज़ रहे

ShareBookmarks

आप से शिकवा ये करना है अगर राज़ रहे

अहद में हुस्न के हम कुश्ता-ए-अंदाज़ रहे

शर्त पर्दा है तो ये आज से अंदाज़ रहे

मेरी आवाज़ में पिन्हाँ तिरी आवाज़ रहे

बन गया दर्द मुक़द्दर से मिरे ये वर्ना

नाज़ तो रूह-ए-मोहब्बत है अगर नाज़ रहे

मैं जो असरार-ए-मोहब्बत कहीं ज़ाहिर कर दूँ

हो के हर साज़ से पैदा तिरी आवाज़ रहे

आप के ग़म को छुपा लूँ ये बजा फ़रमाया

और अगर रंग-ए-रुख़ आमादा-ए-पर्वाज़ रहे

साँस में नज़्अ' की हिचकी को बदलता हूँ मैं

सई-ए-आख़िर है अगर राज़-ए-वफ़ा राज़ रहे

Read More! Learn More!

Sootradhar