"वजूद" - विवेक मिश्र's image
Poetry1 min read

"वजूद" - विवेक मिश्र

विवेक मिश्रविवेक मिश्र November 17, 2022
Share0 Bookmarks 13980 Reads1 Likes
अल्फाजों से बयाँ न कर इश्क़ खामोशी से जताया जाय,
जज्बातों को दें जिन्दगीं तो फिर न बाज़ार सजाया जाय,

ख्वाब पड़े हैं अधूरे अपने वालिदों के वतन की माटी में,
पैदा कर वहीं रोटी अब फर्ज ए वतनपरस्ती निभाया जाय,

ढूंढेंगे ले चिराग तो मिल न सकेगा कभी भी अंधेरा हँस के,
है उसका भी कुछ वजूद कभी तो पलकें झपकाया जाय,

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts