क़त्लेआम's image
Share0 Bookmarks 59353 Reads2 Likes

हर गली नुक्कड़ चौराहे पे
ये अब आम है
जिधर भी देखता हूँ मैं हर ओर
क़त्ल-ए-आम है।

कहीं सुबह है सहमी सी कही
डरी सी शाम है
इंसानियत को देते ये लोग न जाने
कौन सा पैगाम हैं।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts