Azab ka hal tere maznu ne bana rakkha hai By Vinit Singh Shayar's image
77K

Azab ka hal tere maznu ne bana rakkha hai By Vinit Singh Shayar

तेरे मिलने के सपने दिल में सजा रक्खा है

अज़ब सा हाल तेरे मजनू ने बना रक्खा है


तेरी उम्मीद में जीता है इस तरह से कि

काँटे सब चुन कर रास्तों से हटा रक्खा है


उसकी महफ़िल से भीग कर मैं भी लौट आया

उसने ज़ुल्फ़ो में अपने बंद घटा रक्खा है


Read More! Earn More! Learn More!