राधाकृष्ण's image
Share0 Bookmarks 226077 Reads0 Likes

ऊं बृं बृहस्पतये नम:


“बूझत स्याम कौन तू गोरी-कहां रहति काकी है बेटी देखी नहीं कहूं ब्रज खोरी॥

काहे को हम ब्रजतन आवतिं खेलति रहहिं आपनी पौरी-सुनत रहति स्त्रवननि नंद ढोटा करत फिरत माखन दधि चोरी॥

तुम्हरो कहा चोरि हम लैहैं खेलन चलौ संग मिलि जोरी-सूरदास प्रभु रसिक सिरोमनि बातनि भुरइ राधिका भोरी॥ “


जब श्री कृष्ण पहली बार राधा जी से मिले, तो उन्होंने राधा जी से पूछा,

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts