तुम्हारे विचारों की धारा's image
78K

तुम्हारे विचारों की धारा

कविताएं छपवाने के लिए चाहिए तो बस थोड़ी बहुत चाटुकारिता और संपादक के जूते को चाटने भर की हिम्मत 


छपने लायक कविताएं सिर्फ जनेऊ पहन के ही लिखी जा सकती है 

गाय भैंस चराने वाले लोग

चाम छीलने वाले लोग

कपड़ा धोने वाले लोग

भुजा भुजने वाले 

जनेऊ न पहनने वाले लोग

सिर्फ चुटकुला लिखते है

कम से कम संपादक महोदय

Read More! Earn More! Learn More!