मेरी यादों का संदूक's image
88K

मेरी यादों का संदूक

सफर के शुरू से लेकर                        

आखरी लम्हें तक का साथी

मुसीबत की हर घड़ी में जो

बाहें फैलाए खड़ा रहा


हर मुश्किल में मेरे साथ रहा       

मेरी खुशियां को संजोता रहा   

न जाने कब मेरा संदूक         

मेरी पहचान बन गया


कभी दोस्तो की मसनद बना

कभी दावत के लिए बिछ गया

कभी गहरी नींद का साथी

कभी तबले सा बज गया


कभी इस शहर कभी उस गली

कभी रेत में कभी पहाड़ पर

सर्दियों में ठिठुरता कभी

कभी गर्मियों में झुलसता रहा


Read More! Earn More! Learn More!