श्रद्धांजलि's image
Share0 Bookmarks 63484 Reads3 Likes
रात अन्धेरी छुपा न पाई, अरनिमा का सोना 
उजियारे भी रोक न पाए  रात का होना 
समय चक्र है  सब बनता मिटता रहता है
प्राण पखेरू उड़ते ही तन मिट्टी क

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts